1st April 2024 New Rules: 1 अप्रैल के बाद होंगे ये बदलाव, आपकी जेब पर डालेंगे असर, देख लें

1st April 2024 New Rules

1st April 2024 New Rules: बस दो दिन बाद नया फाइनेंशियल ईयर आने वाला है। दरअसल 31 मार्च नजदीक है, यानी 1 अप्रैल से नया फाइनेंशियल ईयर शुरू हो जाएगा। ऐसे में 31 मार्च के बाद कुछ बदलाव होंगे। इसी के साथ कुछ काम भी हैं, जिन्हें 31 मार्च तक करना ही है।

वहीं आज यानी 29 मार्च को बैंक आदि बंद हैं, क्योंकि आज गुड़ फ्राइडे है। कल यानी 30 मार्च को बैंक खुले रहेंगे। ऐसे में आप बैंक से जुड़े कामों को निपटा सकते हैं। वैसे सरकारी बैंक आरबीआई (RBI) ने 31 मार्च रविवार को भी बैंक खोलने के लिए कहा है। यह निर्देश सिर्फ कुछ चुनिंदा बैंकों की शाखाओं को खोलने के लिए दिया गया है।

अब 1 अप्रैल से फाइनेंशियल ईयर 2024-25 आ जाएगा और इसके बाद कई नियम बदल जाएंगे। हालांकि ये बदलाब आपकी जेब पर भारी पड़ेंगे। इसलिए आपको सावधान रहने की जरूरत होगी। आइए आपको इन बदलावों के बारे में बताते हैं।

आधार-पैन लिंक करना

सरकार ने आदेश दिया था कि आधार-पैन को लिंक कराना जरूरी है। इसके लिए जून 2023 तक का समय दिया गया था। अगर इसके बाद कराया जाता है तो जुर्माना देना पड़ेगा। अगर आपने आधार-पैन लिंक नहीं कराया तो आपका पैन रद्द किया जा सकता है। इसके बाद लिंक कराने आपको कुछ भुगतान करना होगा।

फास्टटैग का केवाईसी नहीं कराने पर लगेगा जुर्माना

सभी यूजर्स को फास्टटैग का केवाईसी करवाने के लिए कहा गया था। अब जो लोग केवाईसी नहीं करवाएंगे उनका 1 अप्रैल से फास्टैग बैंक की तरफ से डीएक्टिव कर दिया जाएगा। अब अगर आपका वाहन बिना फास्टटैग के हो जाएगा तो आपसे टोल काउंटर पर दोगुना रकम वसूली जाएगी।

Vivo का तगड़ा 5G स्मार्टफोन हुआ लॉन्च, शानदार कैमरा क्वॉलिटी के साथ होगा फटाफट चार्ज

मैच्योरिटी पर बीमा की रकम मिलने पर कटेगा इनकम टैक्स

अब बीमा पॉलिसी से मैच्योरिटी पर मिलने वाली रकम पर इनकम टैक्स कटेगा। यह नियम 1 अप्रैल से लागू हो रहा है। हालांकि टैक्स प्रीमियम की रकम 5 लाख रुपये से ज्यादा होने पर लिया जाएगा।

Small Saving Schemes: सरकार का स्मॉल सेविंग स्कीम्स को लेकर नया जरूरी अपडेट, निवेश करने पर कितना मिलेगा ब्याज

टोल टैक्स में वृद्धि

1 अप्रैल से टोल टैक्स में इजाफा किया जा रहा है। यानी अब टोल टैक्स ज्यादा देना पड़ेगा। इसमें 2 से 3 फीसदी तक ज्यादा रकम देनी होगी। एनएचएआई (NHAI) की तरफ से इसके लिए निर्देश दिया गया है।