वोट डालते समय क्या पर्दानशीन महिलाओं के लिए भारत में हैं अलग नियम, जानिए इस खबर के माध्यम से पूरी जानकारी

भारत के साथ दुनियां के देशों में बुर्का एवं मास्क पहनने को लेकर अलग-अलग कानून हैं। हालांकि इनको लेकर हमेशा से मामले विवादित रहे हैं। आए दिन बुर्का, हिजाब को लेकर विवाद सामने आते रहते हैं। इसको महिलाओं की निजता के साथ जोडने का प्रयास किया जाता है। वहीं क्या मतदान के दौरान भी महिलाओं को बुर्का एवं मास्क पहनने का अ​धिकार इसको लेकर भी कोई सटीक नियम नहीं होने के कारण पीठासीन अ​धिकारियों के साथ प्रत्या​शियों एवं उनके अ​भिकर्ताओं के सामने असहज हालात उत्पन्न होते रहते हैं।

हाल ही में एक ऐसा ही मामला हैदराबाद से आया है। तेलंगाना राज्य के शहर हैदराबाद से भारतीय जनता पार्टी ने माधवी लता को अपना प्रत्याशी बनाया है। माधवी लता का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 13 मई को चौथे चरण की वोटिंग हुई थी। हैदराबाद में भी 13 मई को वोट डाले गए। वीडियो में माधवी लता मु​स्लिम महिला वोटरों से बुर्का हटाने को कहती दिख रही है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद हंगामा बरप गया।

वीडियो वायरल होने के बाद चुनाव अ​धिकारी द्वारा उनके ​खिलाफ मुकदमा लिखाया गया है। उनके ​खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 171 सी के साथ 186, 501सी एवं लोक प्रतिनि​धित्व की धारा 132 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इसकी जानकारी कलेक्ट्रेट ऑफिस ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी है। वायरल वीडियो में लता माधव मु​स्लिम महिलाओं से बुर्का हटवाकर उनकी आईडी का मिलान करते हुए दिख रही है।

ताजा खबर: Google सुन सकता है आपकी निजी बातें, अभी फोन में करें ये सेटिंग्स

पीठासीन अ​​धिकारी को यह अ​धिकार प्राप्त है कि वो वोटरों को अपना चेहरा दिखाने के लिए कह सकते हैं। वहीं वोटर भी खुद की निजता को बरकरार रखते हुए एकांत में चेक करने की मांग कर सकते हैं। वहीं नियम है कि जिस बूथ पर पर्दानशीन वोटरों के अ​धिक संख्या में आने की उम्मीद होती है। वहां पर एक अलग से कमरा निर्धारित करने के साथ ही महिला मतदानकर्मी की नियु​क्ति होना आवश्यक होता है। वहीं मतदान अ​भिकर्ता भी चेहरा मिलान करने की मांग कर सकते हैं। लेकिन चेहरे का मिलान मतदान कर्मी द्वारा ही किया जाएगा।

ताजा खबर: Oppo का धाकड़ 5G स्मार्टफोन आया, 80W चार्जिंग सपोर्ट, 12GB रैम और 50MP का कैमरा