ऐसे 4 लोगों से रहें हमेशा दूर, वरना हमेशा परेशानियों में घिरे रहोगे आप

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य बेहद विद्वान और महान दार्शनिक व्यक्ति थे और उन्होंने कई काम की बातें बताई हैं। जिन्हें उनकी नीतियों का नाम दिया गया। उनकी नीतियों को मानकर जीवन में आगे बढ़ा जा सकता है। अगर कोई आचार्य चाणक्य की नीतियों को मानता है तो वह कभी जीवन में असफल नहीं होगा। ऐसे ही आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में बताया था कि किन चीजों से दूर रहने में ही आपकी भलाई है। उनका कहना था कि अगर इंसान इन 4 चीजों से दूर नहीं रहेगा तो वह हमेशा परेशानियों में घिरा रहेगा।

मूर्खशिष्योपदेशेन दुष्टास्त्रीभरणेन च।

दुःखितैः सम्प्रयोगेण पण्डितोऽप्यवसीदति॥

मूर्ख शिष्‍य को उपदेश देना

आचार्य चाणक्य का कहना है कि मूर्ख शिष्‍य को उपदेश देने से कोई फायदा नहीं होता है। वह वही करेगा जो उसका मन करेगा। यहां मुर्ख शिष्य से मतलब यही है कि जो अपने आगे किसी की नहीं सुनते हैं। जो लोग किसी की बात नहीं सुनते हैं उन्हें किसी तरह का ज्ञान देना अपना समय बर्बाद करना है। जो लोग ऐसे मूर्खों के पीछे अपना समय बर्बाद करते हैं वो हमेशा परेशानियों में घिरे रहते हैं।

ताजा अपडेट- पैसे की दिक्कत है, सरकार यह खाता खोलने पर दे रही है 10 हजार रुपये, देखें डिटेल

इस तरह की महिलाएं

आचार्य चाणक्य का कहना है कि इस तरह की महिलाओं से दूर रहना चाहिए जो सिर्फ अपनी चलाती हैं और घर में किसी की बात नहीं सुनते हैं। आचार्य चाणक्य का कहना है कि जो महिलाएं अपना घर लेकर नहीं चलती हैं। जो अपने पति, संतान और माता-पिता के बारे में नहीं सोचती हैं तो ऐसी महिलाओं से दूरी बनाकर रखने में ही समझदारी है। ऐसी महिलाएं अपने साथ-साथ उन लोगों का नुकसान भी करवाती है, जो उनसे जुड़ी होती हैं।

धन नष्‍ट होने के बारे में सोचना

आचार्य चाणक्य का कहना है कि ऐसे लोगों से दूर रहो जो सिर्फ धन नष्ट होने के बारे में सोचते हैं। इस तरह के लोग जरूरी कामों के लिए भी पैसा खर्च करने से कतराते हैं और हमेशा कष्टों में घिरे रहते हैं, क्योंकि ऐसे लोग अपना धन अच्छे कामों में नहीं लगा पाते हैं और उनके जाने के बाद उनका पैसा दुसरे लोग ही इस्तेमाल करते हैं। वैसे ज्यादा खर्चा न करें, लेकिन जो जरूरी हैं उसमें खर्च जरूर करें।

ताजा अपडेट- Splendor की भी मार्केट खत्म कर देगी Bajaj की यह सस्ती वाली बाइक, अपडेटेड फीचर्स और पावरफुल के कीमत बेहद कम

दुखी व्‍यक्ति

आचार्य चाणक्य का कहना है कि जो हमेशा दुखी रहते हैं और हमेशा नकारात्‍मक बातें करते हैं तो ऐसे लोगों का साथ नहीं रहना चाहिए। ऐसी लोगों की नकारात्‍मकता साथ रहने पर आप पर भी असर डालती है।