किसानों की बात: खेत में जलाई नरवाई तो भरना पडेगा भारी भरकम जुर्माना, कलेक्टर ने दिए आदेश

वर्तमान में गेहूं की कटाई का दौर शुरू हो चुका है। किसान अपने खेतों की कटाई के लिए तैयारी कर रहे हैं। मध्य प्रदेश में बड़े स्तर पर किसान गेहूं की खेती करते हैं। गेहूं की फसल को काटने के बाद बची हुई नरवाई को खेत में ही जला दिया जाता है। जिससे प्रदूषण फैलता है। और इससे निकलने वाला धुंआ लोगों की सेहत के लिए काफी खतरनाक है। इसके लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने राज्य सरकारों के साथ जिला प्रशासन को इसके लिए प्रभावी कदम उठाने के आदेश दिए हैं।

खेतों में किसानों द्वारा जलाए जाने वाली नरवाई को रोकने के लिए इंदौर के जिला कलेक्टर आशीष सिंह ने आदेश जारी किया है। जिसके तहत खेतों में अगर कोई किसान नरवाई जलाता है तो उस पर भारी भरकम जुर्माना लगाया जाएगा। जुर्माना अदा नहीं करने पर वि​धिक कार्यवाही भी अमल में लाई जा सकती है। वही कृषि विभाग के अधिकारियों को किसानों के समझाने के लिए लगाया गया है।

कृषि विभाग में उपसंचालक शिवम सिंह राजपूत ने बताया गांव-गांव जाकर किसानों को समझाने का काम किया जा रहा है। इस दौरान नरवाई जलाने से होने वाले नुकसानों से किसानों को अवगत करा रहे हैं। किसानों से आह्वान किया जा रहा है कि वह किसी भी कीमत पर खेतों में नरवाई न जलाएं बल्कि रोटावेटर के माध्यम से नरवाई का भूसा बनवा लें जो की पशुओं के काम में आ सकता है।

ताजा खबर: नामांकन का दूसरा दिन: कांग्रेस तय नहीं कर पा रही प्रत्या​शियों के नाम, आज हो सकता है फैसला

वही इंदौर की जिला कलेक्टर आशीष सिंह ने खेतों में नरवाई जलाने पर भारी भरकम जुर्माने की राशि तय की है जिसके तहत अगर कोई किसान दो एकड़ तक की नरवाई को जलाता है तो उसे 2500 रुपए जुर्माना देना होगा वही दो एकड़ से लेकर 5 एकड़ तक के लिए 5000 रुपए और 5 एकड़ से अधिक भूमि के नरवाई को जलाने पर 15000 रुपए जमाने की राशि अदा करनी होगी। जुर्माना नहीं देने पर मुकदमा दर्ज करने की बात कही जा रही है।

ताजा खबर: कई औषधीय गुणों से भरपूर है यह पौधा, संजीवनी बूटी से कम समझो ना इसे, फायदे जान हैरान रह जाएंगे