FSSAI ने चलाया डंडा, कहा- भारत में लोग जूस के नाम पर पी रहे हैं सड़ा रंगीन पानी, सेहत को भी बड़ा नुकसान

जब भी कोई बीमार होता है तो डॉक्टर जूस पीने की सलाह देते हैं। पर अगर जूस से नुकसान होने लगे तो आप क्या कहोगे। जी हां आपने सही सुना। कहा जा रहा है कि जूस शरीर को बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे में इन्हें न पीना ही बेहतर है। ये हम नहीं बल्कि FSSAI कह रहा है और इसके लिए FSSAI ने बड़ा फैसला भी लिया है।

आपको बता दें कि कुछ समय पहले आईसीएमआर (ICMR) ने सलाह दी थी कि बोतलबंद या पैकेटबंद जूस न पिएं। ICMR का कहना था कि गर्मी में पानी, नारियल पानी, फलों का ताजा जूस पी सकते हैं। इसके साथ ही सलाह दी थी कि जूस की जगह साबुत फल को खाना ज्यादा सही है। अब  FSSAI ने भी बोतलबंद व पैकेटबंद जूस को लेकर बड़ा कदम उठा लिया।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by FSSAI (@fssai_safefood)

एफएसएसएआई (FSSAI) ने फूड बिजनेस ऑपरेटर्स को निर्देश दिया है कि वो अपने जूस के डिब्बे या लेबल पर 100 फीसदी फ्रूट जूस नहीं लिख सकते हैं। इस तरीके के क्लेम झूठ और बेबुनियाद हैं। जो बोतलबंद और पैकेटबंद जूस होते हैं उनमें पानी की मात्रा ज्यादा होती है और फलों की मात्रा बहुत ही लिमिटेड होती है।

WhatsApp ने यूजर्स की कर दी मौज, स्टेटस अपडेट के लिए ले आया कमाल का फीचर

बताया गया कि बोतलबंद और पैकेटबंद जूस कई महीनों पुराना भी हो सकता है। कई बार ऐसा देखा गया है कि जूस की बोतलों में कीड़े या हानिकारक चीजें देखने को मिली हैं। इससे कई तरीके के नुकसान भी हो सकते हैं।

Amethi Lok Sabha Election 2024: अमेठी से स्‍मृति ईरानी का क्लीन स्वीप, केएल शर्मा बड़ी जीत की ओर, कही ये बड़ी बात

सेहत के लिए हानिकारक

बोतलबंद और पैकेटबंद जूस में शुगर की मात्रा बहुत अधिक होती है। यह डायबिटीज को बढ़ाने में अहम भूमिका निभा सकता है। इसके आलावा लोगों को प्री डायबिटिक का शिकार बना सकता है। ऐसे में डायबिटीज के मरीजों को इसे पीना काफी हानिकारक होता है। इसके आलावा इन जूस को ज्यादा दिन रखने के लिए इसमें एडक्टिव्स और प्रीजर्वेटिव मिलाया जाता है। इन्हें बनाने वाली कंपनियां तो इसमें ज्यादा मात्रा का इस्तेमाल कर लेते हैं। इससे मोटापा बढ़ सकता है और सेहत के हानिकारक हो सकता है।