चाय और कॉफी के शौकीन जरूर पढ़ें ये खबर, ICMR ने बताईं बड़ी बातें

भारतीयों के चाय और कॉफ़ी के सेवन को लेकर भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने बड़ी जानकारी दी है। आईसीएमआर (ICMR) का कहना है कि ज्यादा चाय और कॉफ़ी का सेवन नहीं करना चाहिए। दरअसल इसमें केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित और साइकोलॉजिकल डिपेंडेंसी करने का गुण होता है।

साइकोलॉजिकल डिपेंडेंसी का मतलब होता है शारीरिक निर्भरता, सीधे शब्दों में कहें तो अगर शरीर को किसी चीज की लत लग जाए तो वो उसके बिना ठीक से काम नहीं करता है। इसके आलावा प्रोटीन सप्लीमेंट न लेने के लिए कहा गया है।

चाय और कॉफ़ी में कितना होता है कैफीन

बता दें कि 150 मिलीलीटर कप ब्रूड कॉफी में 80 से120 मिलीग्राम कैफीन पाया जाता है। वहीं इंस्टेंट कॉफी में 50 से 65 मिलीग्राम और  चाय में 30 से 65 मिलीग्राम पाया जाता है। आईसीएमआर (ICMR) का कहना है कि 300 मिलीग्राम से ज्यादा कैफीन नहीं लेना चाहिए।

इसके आलावा आईसीएमआर (ICMR) ने कहा कि अगर खाना खाने से 1 घंटे पहले इन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। दरअसल चाय और कॉफ़ी में टैनिन होता है, जो आयरन को अवशोषण (absorption) की क्षमता को कम कर देता है।

टैनिन आयरन से एक तरह से चिपक जाता है. जिसकी वजह से शरीर को आयरन को सही से अवशोषित करने में दिक्कत आती है। इसके बाद आयरन की कमी और एनीमिया जैसी परेशानियां आएंगी। इसके आलावा ज्यादा कॉफ़ी पीने से हाई ब्लडप्रेशर और हृदय संबंधी बीमारियां होने का खतरा रहता है।

Hero की मार्केट पर कब्जा करने आई आकर्षक लुक वाली Honda Hornet 2.0, 57kmpl माइलेज के साथ आधूनिक फीचर्स

ज्यादा कैफीन लेने से क्या होते हैं नुकसान

आईसीएमआर (ICMR) की गाइडलाइंस में यह भी कहा गया है कि बिना दूध की चाय पीने से काफी फायदा होता है। इससे ब्लड सर्कुलेशन सुधरता है और कोरोनरी धमनी रोग और पेट के कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा कम होता है। हालांकि इसे भी एक सिमित मात्रा में पीना चाहिए।

मनुष्यों के लिए कौन है सबसे ज्यादा घातक और खतरनाक जीव, जानकर खुद हैरान हो जाओगे

आईसीएमआर ने बताया कि तेल, चीनी और नमक का सेवन सिमित मात्रा में करें और फल, सब्जियां, साबुत अनाज, लीन मीट और समुद्री भोजन को अपने खाने में शामिल करें।