Namaj On Road: नमाज को लेकर सीएम ने दिया ऐसा आदेश कि प्रशासनिक अमले में मच गई खलबली, जानिए क्या कहा

लोकसभा चुनाव के दौरान मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मध्य प्रदेश के साथ देश के अलग-अलग राज्यों में चुनाव प्रचार के लिए जा रहे हैं। अपने व्यस्त कार्यक्रमों में से समय निकालकर उन्होंने प्रदेश की कानून व्यवस्था की समीक्षा की। इस दौरान सख्त लहजे में अ​धिकारियों को निर्देश दिया कि अगर कहीं बिगडती कानून व्यवस्था की सूचना आती है तो संबं​धित अ​धिकारी को हटाने के साथ उसके ​खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इस दौरान कहा कि कानून व्यवस्था से कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

समीक्षा बैठक के दौरान उन्होंने अ​धिकारियों से पूछा कि पूरे प्रदेश में कहीं सड़क पर नमाज हो रही है तो अ​धिकारियों ने सड़क पर नमाज नहीं होने की बात कही। इस पर मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा एक बार सुनि​श्चित कर लें कि कहीं सड़क पर नमाज तो नहीं हो रही है। अगर कहीं सड़क पर नमाज हो रही है तो उस पर तत्काल रोक लगाई जाए। कहीं से भी किसी प्रकार से वाद-विवाद की सूचना नहीं मिलने चाहिए। आदेशों का कडाई से पालन किया जाए।

इस दौरान धार्मिक स्थलों पर ध्वनि विस्तारक यंत्रों को लेकर चर्चा की गई। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा किसी भी कीमत पर धार्मिक स्थलों पर ध्वनि विस्तारक मानक से अ​धिक आवाज में नहीं बजना चाहिए। अगर बज रहे हैं तो संबं​धित क्षेत्र के अ​धिकारी उस पर कार्रवाई करते हुए उसे नियंत्रित कराने का कार्य करें। जिससे धार्मिक स्थल के आसपास रहने वाले लोगों को सकून और शांति मिल सके।

जाता खबर: कपिल शर्मा शो पर पहली बार आए अर्चना पूरन के बेटे, कपिल ने कहा कुछ ऐसा कि वायरल हो गया

मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव ने अ​धिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिन क्षेत्रों में पूर्व दंगा होते रहे हैं या फिर दंगों के दौरान कफ्यू लगा है उनकी सूची बनाई जाए। वहां दंगा रोकने के लिए प्रभावी कार्ययोजना बनाई जाए। दंगा होने पर संबं​धित के ​खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाए। उन्होंने कहा जुआ, सट्टा जैसे अपराधों पर प्रभावी कार्यवाही करते हुए उनको रोका जाए। नहीं तो संबं​धित अ​धिकारी को हटाने का कार्य होगा।

ताजा खबर: Whatsapp का कमाल फीचर, एक कोड से छुप जाएगी पूरी चैट