UP में अब मैरिज सर्टिफिकेट बनवाते समय देनी होगी दहेज की जानकारी, सरकार का आदेश

उत्तर प्रदेश में अब जो लोग विवाह प्रमाण पत्र यानी मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने जाएंगे उनके लिए जरूरी खबर है। दरअसल शासन की तरफ से निबंधन विभाग को निर्देश जारी किया गया है। निर्देश में कहा गया है कि विवाह प्रमाण पत्र यानी मैरिज सर्टिफिकेट बनवाने के लिए वर-वधु को दहेज का विवरण यानी पूरी जांनकारी देनी होगी।

आपको जानकारी के लिए बता दें कि हजारों लोग विवाह प्रमाण पत्र बनाने के लिए आवेदन करते हैं। नियम के अनुसार, वर-वधु पक्ष की तरफ से विवाह का कार्ड ,आधार कार्ड, हाई स्कूल की मार्कशीट के साथ दो गवाहों के दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी। इसके साथ अब दहेज का शपथ पत्र भी देना जरूरी होगा।इसी शपथ पत्र में पूरे दहेज का भी ब्यौरा देना पड़ेगा।

एक अधिकारी की तरफ से भी बताया गया है कि शासन ने विवाह प्रमाण पत्र के शपथ पत्र को जरूरी कर दिया है। अब जरूरी डाक्यूमेंट्स के साथ दहेज का प्रमाण पत्र भी देना होगा।

Mobile Number को Voter Card में लिंक करना जरूरी, फ्री में इस प्रोसेस से करें

कहां इस्तेमाल होता है मैरिज सर्टिफिकेट

  • अगर शादी के बाद जॉइंट बैंक खाता खुलवाना हो तो मैरिज सर्टिफिकेट की जरूरत होती है।
  • पासपोर्ट के लिए अप्लाई करना चाहेंगे तो मैरिज सर्टिफिकेट लगेगा।
  • अगर शादी होने के बाद बीमा कारवाना चाहेंगे तो मैरिज सर्टिफिकेट लगेगा।
  • अगर शादीशुदा जोड़ा वीजा या किसी देश में स्थाई निवास के लिए आवेदन करना चाहता है तो मैरिज सर्टिफिकेट लगेगा।
  • अगर शादी के बाद महिला अपना सरनेम नहीं बदलती है तो मैरिज सर्टिफिकेट के बिना सरकारी सुविधाओं का फायदा नहीं उठा सकेंगे।
  • शादी के बाद किसी नेशनल बैंक से लोन लेते हैं तो मैरिज सर्टिफिकेट लगेगा।
  • तलाक के बारे केस डालने के लिए मैरिज सर्टिफिकेट जरूरी होगा।
  • कई और के कामों के लिए मैरिज सर्टिफिकेट जरूरी होगा।

अब और छाएगा भौकाल, Royal Enfield ला रही है ये 3 धाकड़ बाइक

अगर शादी हुए कई साल हो गए हैं तो क्या रजिस्‍ट्रेशन होगा?

वैसे नियम के अनुसार, शादी के 30 दिन के भीतर मैरिज रजिस्‍ट्रेशन के लिए आवेदन करना होगा। वैसे 5 साल तक एक्स्ट्रा फीस के साथ मैरिज रजिस्‍ट्रेशन के लिए आवेदन कर सकते हैं। अगर शादी को 5 साल से ज्यादा समय हो गया हो तो मैरिज रजिस्‍ट्रेशन की छूट संबंधित जिला रजिस्ट्रार से मिल सकती है।