सौतेली पुत्री ने दर्ज कराया पिता के ​खिलाफ मुकदमा तो सामने आई सगी बेटी, फिर अदालत ने सुनाया यह फैसला

सौतेले पिता पर बेटी ने दुष्कर्म करने के साथ अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया तो पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पिता की हालत देख सगी बेटी ने पैरवी की। तीन वर्ष तक अ​​धिकारियों के यहां चक्कर लगाने के साथ कोर्ट में मजबूती से पैरवी की। पैरवी का नतीजा रहा कि विशेष न्यायालय पाक्सो एक्ट ने पिता को बेकसूर पाते हुए बरी कर दिया। सगी बेटी ने पिता के बरी होने पर प्रसन्नता जाहिर की।

यह था पूरा मामला

पूरा मामला देवास छतरपुर के बागला थाना क्षेत्र का है। जहां फरवरी 2021 में सौतेली बेटी ने अपने ही पिता के ​खिलाफ दुष्कर्म करने एवं मारपीट करने के साथ जान से मारने की धमकी देने की ​शिकायत दर्ज कराई। पुलिस में बताया कि अक्टूबर 2020 में उसके सौतेले पिता ने उसके साथ दुष्कर्म किया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार कर जेल भेजा और मामले में चार्जशीट लगा उसे विशेष न्यायालय पाक्सो एक्ट बागला में पेश कर दिया।

आरोपी की गरीबी के चलते वि​धिक सहायता फोर्म द्वारा उसे निशुल्क सहायता उपलब्ध कराई गई। आरोपी की तरफ से पैरवी एडवोकेट गगन ​शिवहरे ने की। जानकारी देते हुए एडवाेकेट गगन ​शिवहरे ने बताया कि अदालत में दोनों तरफ सबूत पेश किए गए। लेकिन उनकी तरफ से हुई मजबूत पैरवी एवं ठोस साक्ष्य के आधार पर आरोपी को न्यायालय ने बरी कर दिया है।

ताजा खबर: मिक्सी में इन 5 चीजों को डालने से बचें, वरना आपको हो सकती है बड़ी दिक्कत

बताया कि सौतेली पुत्री 2018 में घर छोडकर भाग गई थी। जिसके बाद उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी। वहीं वापिस आने पर उसका आनन-फानन में विवाह कर दिया। उसके बाद वह 2021 में फिर से भाग गई। उसके बाद उसके पति के ​खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पति के ​खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने से वह नाराज थी। इसी के चलते उसने मुकदमा दर्ज कराया ​था। इस दौरान आरोप सौतेले पिता ने अपने जीवन के 19 माह जेल में बिताए।

ताजा खबर: अपनी गर्लफ्रेंड संग रोमांटिक अंदाज में दिखे इमरान खान, लेखा ने शेयर की तस्वीर